desi nuskhe

Desi Nuskhe
God's artia (भगवान् जी की आरतिया)

Bhagwan Ganesh Ji Ki Aarti | भगवान् गणेश जी की आरती

Bhagwan Ganesh Ji Ki Aarti | भगवान् गणेश जी की आरती
  • PublishedNovember 9, 2023

भगवान् गणेश जी की आरती को किसी भी भगवान् की आरती से पहले गाना चाहिए।

भगवान् गणेश जी की आरती

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥

एकदन्तदयावन्त, चार भुजाधारी।
माता की सुन्दर बलियाँ, गले मुण्डमाल हारी॥

लम्बोदर पीताम्बर फनवाला।
सरल सुंदर मुख बोलत भाला॥

लम्बोदर लक्ष्मी, आरती को मराठी माझ्या मैत्री ची॥
अन्धनकों को आंधियों का कावरा वाणी पर वाणी ची॥

अनुपम अमित भांडारी, लेकर करो गणराय।
यही एक वरदान है, अपुने भक्तों के पास जैसे राह।

भावभक्ति विद्या आदि की देवता।
तुम ही प्रेम पुष्प भरने वाले गणपति॥

मोदक प्रिय मोराया, लंबोदर तुम्हारी सरनागत वत्सला हैं।
जय गणेश देवा, जय गणेश देवा, जय गणेश देवा॥

Burning diya lamps on wooden table with bokeh background

गणेश जी की आरती की शुरुआत करने से पहले एक तेल या घी के दीपक को जलाएं फिर आरती शुरू करने पर आरती को कुल सात बार दोहराए । प्रथम चरण में चार बार भगवान् के चरणों की तरफ, दो बार नाभि की तरफ, और अंत में एक बार मुख की तरफ ज़रूर घुमाये। साथ ही पूरी आरती में पहले से जले हुए दीपक में दोबारा से बाती या कपूर को नहीं जलना चाहिए।

Written By
desinuskhhh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *